भौतिक शास्त्र

      आधुनिक भौतिक विज्ञान ने विश्व में एक नई क्रांति को जन्म दिया है। विद्युत-तरंगों के माध्यम से सात समुद्र दूर स्थित लोगों से प्रत्यक्ष चर्चा एवं साक्षात्कार करवाना, इस विषय की चरमोत्कर्ष परिणिति है। हिंदी के माध्यम से भौतिक विज्ञान की जटिलताओं को सरलीकृत रूप से प्रस्तुत करना अटल बिहारी वाजपेयी हिंदी विश्वविद्यालय की प्राथमिकता है। भौतिक विज्ञान के अंतर्गत समाहित विभिन्न उप-विषयों को सुबोध, सुगम बनाने एवं उसके आधार-भूत सिद्धांतों को भी इसी पद्धति से प्रस्तुत करने का अटल बिहारी वाजपेयी हिंदी विश्वविद्यालय के संकल्प ने अपना मूर्तरूप प्राप्त कर लिया है। निश्चित ही कालांतर में यह वट-वृक्ष का स्वरूप धारण करके अपनी विद्युत संवाहिनी शक्तियों से जन-सामान्य को आकर्षित एवं प्रभावित करेगा।

      अटल बिहारी वाजपेयी हिंदी विश्वविद्यालय, भोपाल में भौतिकशास्त्र विभाग की स्थापना वर्ष 2013 में हुई है। विभाग में हिंदी भाषा के माध्यम से विषय का पठन-पाठन एवं अनुसंधान कार्य वर्ष 2013 से संपादित किया जा रहा है। विभाग के पाठ्यक्रमों में समकालीन विषय वस्तु के अतिरिक्त भारतीय ज्ञान परंपरा का समावेश भी किया गया है। विभाग व शिक्षक इस दृष्टिकोण का अध्ययन एवं अनुसंधान सामग्री का या तो एकत्रीकरण करते हैं अथवा उसका संकलन, संपादन या लेखन करते हैं जिससे विद्यार्थियों को विषय से संबंधित सामग्री उपलब्ध हो सके। यह विभाग आधारभूत विज्ञान संकाय के अंतर्गत संचालित होता है। वर्तमान में भौतिकशास्त्र विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. प्रज्ञेश कुमार अग्रवाल हैं।

      विभाग द्वारा स्नातक, स्नातकोत्‍तर, विद्यानिधि एवं विद्यावारिधि पाठ्यक्रम संचालित किये जाते हैं। विभागीय पुस्तकालय के अतिरिक्त विश्वविद्यालय में सुसज्जित विशाल केंद्रीय पुस्तकालय है, जिसमें भारतीय ज्ञान परंपरा से संबंधित पौराणिक ग्रंथ तथा शोध प्रबंध हैं जो समय-समय पर विद्यार्थियों को उपलब्ध कराये जाते हैं। विभाग में वर्तमान में 3 शिक्षक, एक प्रयोगशाला सहायक एवं एक कार्यालय सहायक कार्यरत हैं।

      विभाग द्वारा पूर्व में भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र के साथ राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया जा चुका है एवं सत्र 2018-19 में भारतीय इतिहास अनुसंधान परिषद् के सहयोग से पुनः एक राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन प्रक्रियाधीन है।

भौतिकशास्त्र विभाग में कार्यरत शिक्षक- डाॅ. प्रकाश खातरकर

      भौतिकशास्त्र विभाग में कार्यरत डाॅ. प्रकाश खातरकर इलेक्ट्राॅनिक विषय में विद्यावारिधि उपाधि प्राप्त कर अंतरिक्ष एवं आयनमंडलीय  भौतिकी पर अनुसंधान कार्य करते हैं। डाॅ. खातरकर ने बतौर वैज्ञानिक पृथ्वी के दक्षिणी धुव्र स्थित अंटार्कटिका महाद्वीप में -65°C के अत्यंत ठंड़े वातावरण में, जहां 6 माह लगातार दिन व 6 माह रात होती है 14 माह रहकर शोध कार्य किया है। वे मध्यप्रदेश के एकमात्र वैज्ञानिक हैं जिन्हें भारत सरकार द्वारा पोलरमैन की उपाधि से सम्मानित किया है। 2014 में इनके जीवन पर बनी फिल्म ‘‘द अनटोल्ड स्टोरी आॅफ पोलरमेन’’ को दादा साहब फाल्के पुरस्कार प्राप्त हुआ है। इनके द्वारा 37 राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय शोध पत्र तथा 2 अंतर्राष्ट्रीय पुस्तकों का प्रकाशन किया गया है।

भौतिकशास्त्र विभाग में कार्यरत शिक्षक- डाॅ. राजा चैहान

      डाॅ. राजा चैहान को बरकतउल्लाह विश्वविद्यालय, भोपाल द्वारा 1994 में स्‍नातकोत्‍तर, भौतिकशास्त्र परीक्षा में सभी संकायों में प्रावीण्य सूची में प्रथम स्थान प्राप्त करने के लिए स्वर्ण पदक से सम्मानित किया जा चुका है। इनका कुल शैक्षणिक अनुभव 23 वर्षों का है, जिसमें 10 वर्ष का प्रशासकीय अनुभव हैं। आपने हिंदी ग्रंथ अकादमी, भोपाल के माध्यम से विज्ञान विषय के स्नातक स्तर की पुस्तकें प्रकाशित की हैंं एवं पी.एचडी. विद्यार्थियों को मार्गदर्शन देकर शोध निदेशक के रूप में कार्य किया है। आपने अनेक लघु एवं वृहद शोध परियोजनाएं पूर्ण की हैं। आपके द्वारा 15 शोध पत्र प्रकाशित हैं एवं आपने विभिन्न संगोष्ठियों में भाग लिया है। 

 

 

 

 

शिक्षक गण :

विभागीय शिक्षक गण की सूची :
नाम पदनाम विशेषज्ञता संपर्क न. ईमेल
डॉ. प्रकाश खातरकर अतिथि शिक्षक अंतरिक्ष विज्ञान एवं संचार इलेक्ट्रॉनिक 9826665771 pkhatarkar.01@gmail.com
डॉ. राजा चौहान अतिथि शिक्षक मटेरियल साइंस 9826225630

पाठ्यक्रम विवरण:

पाठ्यक्रम का नाम : एम.एससी. भौतिक शास्त्र
पाठ्यक्रम का प्रकार स्नातकोत्तर
अवधि 2 वर्ष
न्यूनतम योग्यता स्नातक (सम्बंधित विषय में )
अनिवार्य विषय --
उपलब्ध सीट --
प्रवेश का माध्यम प्रावीण सूची
अध्ययन का माध्यम नियमित




पाठ्यक्रम :

पाठ्य विवरण (सिलेबस):
पाठ्यक्रम सिलेबस
बी.एससी. Download
एम.एससी. Download



संकाय एवं विभाग

नवीन सूचनाएँ

अधिक पढ़ें