शिक्षा

        शिक्षक को शिक्षा के सामाजिक संदर्भो के प्रति जवाबदेह और संवेदनशील होना चाहिए। साथ ही उसे विद्यार्थियों की पृष्‍ठभूमि के अंतरराष्‍ट्रीय तथा वैश्विक संदर्भो, सामाजिक समता, न्‍याय आदि के राष्‍ट्रीय लक्ष्‍यों की जानकारी भी होनी चाहिए।  

        यह आवश्‍यक हो गया है कि शिक्षक-शिक्षा कार्यक्रम इन आकांक्षाओं की पूर्ति के लिए जवाबदेह हो। यह शिक्षक-शिक्षा कार्यक्रम में बुनियादी बदलावों द्वारा ही संभव है। इसका मतलब है कि हमें एकदम नयी दिशा में जाने की आवश्‍यकता है। जिसके लिए हमें आवश्‍यक सैद्धांतिक और व्‍यावहारिक बातें तय करनी चाहिए। इसके पश्‍चात् प्रचलित ज्ञान और व्‍यवहार करने को उचित रूप से शामिल करने के लिए, परिवर्तन के लिए या फिर उन्‍हें छोडने के लिए उन्‍हें जॉचा-परखा जाना चाहिए। उल्‍लेखनीय है कि शिक्षक-शिक्षा के इस नए उपागम में बहुत सारे पहलुओं पर विशिष्‍ट अवधारणात्‍मक और व्‍यावहारिक फोकस होना चाहिए, जैसे सीखने की पद्धतियॉ, विधार्थी, सामाजिक संदर्भ, मूल्‍यांकन आदि।

        सर्वशिक्षा अभियान तथा राष्‍ट्रीय माध्‍यमिक शिक्षा अभियान के अंतर्गत देश में प्राथमिक से लेकर उच्‍चतर माध्‍यमिक स्‍तर की संख्‍या में कई गुना वृद्धि हुई है। शिक्षा का अधिकार अधिनियम के प्रावधानों के अंतर्गत शिक्षक के पद पर नियुक्ति हेतु प्रशिक्षण तथा शिक्षक योग्‍यता परीक्षा भी उत्‍तीर्ण करना आवश्‍यक हो गया है। बड़ी संख्‍या में सृजित शिक्षकों के पदों की पूर्ति के लिए शिक्षक प्रशिक्षण संस्‍थानों की कमी है। विश्‍वविद्यालय द्वारा शिक्षा में राष्‍ट्र की चिति एवं भारतीयता को केन्‍द्र में रखकर सत्र 2016-17 से द्विवर्षीय बी.एड. पाठ्यक्रम संचालित किया जा रहा है तथा हिंदी भाषा के श्रेष्‍ठ शिक्षकों की पूर्ति के दृष्टिकोण से छात्र अध्‍यापकों हेतु भारतीय ज्ञान-विज्ञान परंपरा पर आधारित शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है।

 

शिक्षा विभाग में कार्यरत शिक्षक- डॉ. रश्मि चतुर्वेदी

      डॉ. रश्मि चतुर्वेदी शिक्षा संकाय में वर्ष 2015 से कार्यरत है। डॉ. चतुर्वेदी ने इतिहास एवं शिक्षाशास्‍त्र विषय में विद्यावारिधि की उपाधि प्राप्‍त की है एवं शिक्षाशास्‍त्र विषय में ही यू.जी.सी नेट की उपाधि प्राप्‍त की है।

      डॉ. चतुर्वेदी ने लगभग 45 विभिन्‍न राष्‍ट्रीय एवं अंतर्राराष्ट्रिय  संगोष्ठियों में अपने शोध पत्रों का वाचन किया तथा आपके लगभग 25 शोधपत्र राष्‍ट्रीय स्‍तर की पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुके हैं। डॉ. चतुर्वेदी विश्‍वविद्यालय के अकादमिक कार्यो के अतिरिक्‍त विभिन्‍न समितियों में भी सक्रिय सदस्‍य हैं साथ ही विश्‍वविद्यालय के गोपनीय एवं परीक्षा शाखा में महत्‍वपूर्ण दयित्‍वों का निर्वहन कर रही हैं।

शिक्षा विभाग में कार्यरत शिक्षक- डाॅ. सिद्धार्थ शुक्‍ला

       आपने एम.एस.सी.(भौतिकशास्त्र),एम.एड.,(आर.आई.ई.,NCERT),पी.जी.डी.सी.ए., पीएच.डी.-शिक्षाशास्त्र (बी.यू.) के उपरांत लगभग 10 वर्षों से शिक्षा के क्षेत्र में शिक्षण, अनुसंधान एवं शोधकार्य में कार्यरत हैं। लेखक के रूप में मध्यप्रदेश भोज (मुक्त) विश्‍वविद्यालय, भोपाल से गणित शिक्षण’ (डी.एड.) की स्वअधिगम सामग्री (SIM),  एस.सी.ई.आर.टी., भोपाल से गणित’ (बी.टी.सी.), ‘शाला इंटर्नशिप’ (डी.एल.एड.), ‘बचपन और बाल विकास’ (डी.एल.एड.) तथा आई.ए.एस.ई., भोपाल से भारत में शैक्षिक तंत्र का विकास’(बी.एड.) के मॉड्यूल प्रकाशित हो चुके हैं। शिक्षा के क्षेत्र में राष्ट्रीय एवं अंन्तराष्ट्रीय सेमिनार में इनके कई अनुसंधान पेपर प्रस्तुत एवं प्रकाशित हुए। पाठ्यक्रम, मॉड्यूल एवं स्वअधिगम सामग्री लेखन/संपादक, आदि में अनेक कार्यसंगोष्ठियों में कार्य किया। आपने मध्यप्रदेश भोज (मुक्त) विश्‍वविद्यालय, भोपाल में व्याख्याता के पद पर पदस्थ रहे, साथ ही दूरस्थ शिक्षा के माध्यम से संचालित एम.एड. की संपर्क कक्षाओं एवं जिला शिक्षा और प्रशिक्षण संस्थान(DIET), भोपाल में क्रियात्मक अनुसंधान के अंतर्गत अनुसंधान क्षमता विकासपर निर्देशन किया। डॉ. हरि सिंह गौर केन्‍द्रीय विश्‍वविद्यालय, सागर से रिफ्रेसर कोर्स भी किया है।

शिक्षा विभाग में कार्यरत शिक्षक- सुश्री सविता बागडे

सुश्री सविता बागडे शिक्षा संकाय में शिक्षक के रूप में कार्यरत है। सुश्री सविता बागडे ने एम.एससी वनस्‍पतिशास्‍त्र से एवं एम.एड की परीक्षा शिक्षाशास्‍त्र विषय में क्षेत्रीय शिक्षा संस्‍थान भोपाल से प्रथम श्रेणी में उत्‍तीर्ण की है। सा‍थ ही यू.जी.सी नेट परीक्षा उत्‍तीर्ण की है। इनके द्वारा 4 राष्‍ट्रीय संगोष्ठियों में सहभगिता की है। तथा विश्‍वविद्यालय की विभिन्‍न समितियों में सदस्‍य है। अनेक पाठ्येत्‍तर गतिविधियों में सदैव सलग्‍न रहती है। विश्‍वविद्यालय के शिक्षा संकाय में अपने शैक्षिक कार्य के उत्‍तर‍दायित्‍वों का निर्वहन कर रही है।

                               

                              

                              

शिक्षक गण :

विभागीय शिक्षक गण की सूची :
नाम पदनाम विशेषज्ञता संपर्क न. ईमेल
डॉ. रश्मि चतुर्वेदी प्रभारी शिक्षा का भारतीय परिपेक्ष्‍य एवं विभिन्‍न शैक्षिक चिन्‍तक 9425667550 drrashmichaturvedi1@gmail.com
डॉ. वन्‍दना शर्मा अतिथि शिक्षक चित्रकारी, रचनात्‍मक कार्य 9893206531 vandanasharma0107@gmail.com
सुश्री सविता वागडे अतिथि शिक्षक विज्ञान शिक्षक, शिक्षर्थी का बोध, ज्ञान अध्‍ययन की शाखा 9806739505 bagde.savita@gmail.com
डॉ. सिद्धार्थ शुक्‍ला अतिथि शिक्षक भारतीय शिक्षा, भौतिक विज्ञान एवं गणित शिक्षण, आई.सी.टी 9589707543 dr.siddharth76@gmail.com
श्री हरीश वर्मा अतिथि शिक्षक स्वर और वाद्य संगीत 8109108943 harish1.verma@gmail.com
डॉ. नीलू वर्मा अतिथि शिक्षक शहरी भूगोल 9407544041 neelesh261@gmail.com
डॉ. ज्ञान शंकर तिवारी अतिथि शिक्षक योग दर्शन 7354964094

पाठ्यक्रम विवरण:

पाठ्यक्रम का नाम : बी.एड.
पाठ्यक्रम का प्रकार स्नातक
अवधि 2 वर्ष
न्यूनतम योग्यता स्नातक
अनिवार्य विषय --
उपलब्ध सीट --
प्रवेश का माध्यम प्रावीण सूची
अध्ययन का माध्यम नियमित




पाठ्यक्रम :

पाठ्य विवरण (सिलेबस):
पाठ्यक्रम सिलेबस
B.ed Download



संकाय एवं विभाग

नवीन सूचनाएँ

अधिक पढ़ें