अर्थशास्त्र

आचार्य चाणक्य (कौटिल्य) अर्थशास्त्र ग्रंथ के रचयिता थे। यह बात सर्वविदित है कि पुराने समय में सिल्क रूट जो एशिया को यूरोप से जोड़ तथा भारत से होकर निकलता था जिसमें विदेशी व्यापार में भारत की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका थी। क्योंकि यदि हम प्राचीन भारतीय अर्थव्यवस्था को देखते हैं तो पता चलता है कि भारत में न तो कहीं भी बेरोजगारी थी और न ही गरीबी। प्रत्येक वर्ग अपना स्वयं का व्यवसाय करता था, जिसमें वह पारंपरिक रूप से सिद्धहस्त था। इसलिए भारत सोने की चिड़िया कहलाता था। 
    इस विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र विषय का हिंदी में अध्ययन अध्यापन एवं अनुसंधान का कार्य सन् 2013 से निरंतर जारी है। जिसमें वर्तमान एवं प्रचीन सभी विचारधाराओं को उचित स्थान प्रदान किया गया है। 
मुख्य उद्देश्य - 
1-    अंतर्राष्ट्रीय एवं राष्ट्रीय विकास सिद्धांतों एवं नीतियों को भारतीय अर्थव्यवस्था के अनुरूप ढालना एवं उनका विश्लेषण करना। 
2-    अर्थशास्त्र के प्राचीन भारतीय माॅडल को एक बार पुनः प्रतिस्थापित करने का प्रयास करना। 
3-    गणितीय, अर्थमितीय एवं सांख्यिकीय दृष्टिकोण इस माॅडल के पुर्वानुमान निकालकर सफलता के अवसरों को देखना। 
4-    विषय संबंधी प्राचीन भारतीय ज्ञान परंपरा को समझाना एवं प्राचीन सुदृढ़ आर्थिक ढांचा को टूटने से बचाने का प्रयास करना।

 

अर्थशास्‍त्र विभाग में कार्यरत शिक्षक- डॉ. निशा पी शर्मा

योग्यता                                      -       एम.ए., एम.फिल्., नेट (यू.जी.सी.) पास, पीएच.डी., एम.बी.ए. (एच.आर.), सेट पास 2017
विशेषज्ञता                                  -       अर्थशास्त्र एवं प्रबंधन, अर्थमिति में विशेषज्ञता
अध्यापन अनुभव                         -        शिक्षण एवं शोध (पीएच.डी. छोड़कर) लगभग 22 वर्ष
अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन                     -       10 वां विश्व हिंदी सम्मेलन में सहभागिता
राष्ट्रीय संगोष्ठी एवं कार्यशाला          -        लगभग 27 संगोष्ठी 04 कार्यशाला 
प्रकाशन                                     -       लगभग 10 शोध लेख 01 पुस्तक
नवोन्मेषी कार्य - 

  •     विश्वविद्यालय स्तर पर संगोष्ठी का आयोजन
  •     विद्यार्थियों से परियोजना कार्य करवाना 
  •     प्रस्तुतिकरण देना और पी.पी.टी. तैयार करवाना।
  •     सहायक शुल्क प्रभारी दायित्व, समय-समय पर गोपनीय विभाग का दायित्व, नैक समिति दायित्व तथा विभाग एवं विश्वविद्यालय द्वारा दिये गये सभी दायित्वों को अपनी क्षमता अनुसार पूर्ण करना।

शिक्षक गण :

विभागीय शिक्षक गण की सूची :
नाम पदनाम विशेषज्ञता संपर्क न. ईमेल
डॉ. निशा पी शर्मा अतिथि शिक्षक अर्थशास्त्र एवं प्रबंधन, अर्थमिति में विशेषज्ञता 9826450117 sharmapnisha@gmail.com

पाठ्यक्रम विवरण:

पाठ्यक्रम का नाम : एम.ए. अर्थशास्त्र
पाठ्यक्रम का प्रकार स्नातकोत्तर
अवधि 2 वर्ष
न्यूनतम योग्यता स्नातक
अनिवार्य विषय --
उपलब्ध सीट --
प्रवेश का माध्यम प्रावीण सूची
अध्ययन का माध्यम नियमित




पाठ्यक्रम :

पाठ्य विवरण (सिलेबस):
पाठ्यक्रम सिलेबस
एम. ए द्वितीय सेमेस्‍टर Download
एम.ए Download
बी.ए Download



संकाय एवं विभाग

नवीन सूचनाएँ

अधिक पढ़ें